How To

How to use Pulse Oximeter in Hindi | Safe In Corona Time

pulse oximeter
Written by soniadumore

दोस्तों आज के समय में अपनी और परिवार की Health की Responsibility हमारे हाथो में है आज की Post में मैं Sonia Dumore आपके साथ कुछ जरुरी Information Pulse Oximeter के बारे में Share करना चाहती हूँ ……..

Pulse Oximeter घर में जरूर होना चाहिए

कोविड -19 महामारी के दौर में सभी लोगों को अपने घरों में एक Pulse Oximeter और थर्मामीटर रखना चाहिए । आइए जानते है यह Pulse Oximeter कैसे काम करता है ? नीचे दी गई जानकारी के अनुसार आपको यह जानना जरुरी है की आपको इसे कैसे इस्तेमाल करना चाहिए ?

How to use Pulse Oximeter in Hindi

Pulse Oximeter क्या है?
Pulse Oximeter एक छोटासा Device है। जो कि Chip Clip या Bag Clip की तरह दिखाई देता है। इसे तर्जनी ऊंगली में Clip की तरह फंसाया जाता है। इस Device में लगे सेंसर हमारे शरीर के अंदर खून में ऑक्सीजन का प्रवाह कैसा है यह पता लगते है । इसके बाद इस Device के Digital Screen पर रीडिंग दिखाई देती है। Screen पर अगर 95 से 100 के आसपास Digit (अकड़े ) दिखाई दे तो यह रीडिंग Normal है।

कुछ मरीजों को जिन्हे सांस से जुड़ी समस्या है उनमें ये Digit (अकड़े ) काफी कम हो सकती है। अगर ऑक्सीजन रीडिंग 92 या उससे कम दिखाएं तब आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। यह डिवाइस आपके हर्ट रेट को भी दिखाएगा। वयस्कों में सामान्य हर्ट रेट लगभग 60 से 100 बीट प्रति मिनट तक होती है, हालांकि उच्च हृदय फिटनेस वाले एथलीटों में कम पल्स होगा।

डॉक्टरों के मुताबिक, Pulse Oximeter में रीडिंग देखने के लिए घर के किसी सवस्थ वयक्ति की मदद ले। कई बार हम देखते हैं तो उल्टा रीडिंग पड़ लेते हैं और घबरा जाते हैं। हो सकता है आप 96 की जगह 69 पढ़ लें जो कि काफी खतरनाक स्तर माना जाता है।

How to use Pulse Oximeter in Hindi

Pulse Oximeter कैसे काम करता है ?

हम अपनी उंगली को जब Pulse Oximeter में डालते है तब उंगली के जरिए एक लाल रंग की Beam हमारे उंगली छू जाती है यह एक प्रकाश की तरंग होती है। हमे इस तरंग के Pass होने से कुछ महसूस नहीं होता। यह रौशनी हमारे Hemoglobin में Blood में Protein के अणु में मौजूदा Oxygen Level को जाचता है हमारे Hemoglobin को Observe करके Blood के Oxygen सैच्युरेशन के Level को Indicate करता है।

Pulse Oximeter आपको Numbers में रीडिंग देता है। जब हम Doctor के पास जाते है तब हमने Pulse Oximeter का अनुभव किया होगा। आपकी जानकारी के लिए बता देते है यह Devices ठंडे हाथों के Compare में गरम हाथों में अच्छे से काम करता है। हमारे Oxygen Level हमेशा उतार चढ़ाव होता रहता है इस लिए दिन में तीन बार रीडिंग लेना चाहिए। आप अलग पोजीशन में रीडिंग रीडिंग ले सकते है जैसे की पीठ के बल लेटते वक्त या चलते समय। इन सब रीडिंग्स को अपने डॉक्टर के साथ जरूर शेयर करे

किस उंगली का उपयोग करें?

ज्यादा तर लोग अपने तर्जनी ऊँगली का उपयोग करते है कुछ सर्वे करने के बाद यह पता चला है की हमारे हाथ की तीसरी उंगली को ज्यादा बेहतर समझा गया है। यदि आप Pulse Oximeter पर दाएं हाथ का इस्तेमाल करते हैं तो दाईं मध्यमा उंगली का उपयोग करें। अगर आप बाएं हाथ का इस्तेमाल करते हैं तो बाईं मध्यमा उंगली का उपयोग करें। ज्यादातर डॉक्टर Pulse Oximeter के लिए तर्जनी उंगली का इस्तेमाल करते हैं।

क्या लंबे नाखून या नेल पॉलिश से फर्क पड़ता है?
हां ! डार्क नेल पॉलिश का रीडिंग पर असर पड़ता है। कई बार डार्क नेल पॉलिश होने की वजह से ठीक से Device रीडिंग नहीं कर पाता है। डार्क नेल पॉलिश के अलावा लंबे नाखून से भी फर्क पड़ता है। उंगली सही से Fix न होने के कारण सही जानकारी नहीं मिलती है।

संकेत पहले से दे देता है यह Device
पल्स ऑक्सीमीटर महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि इस Device की मदद से कोई लक्षण दिखने से पहले भी पता लग जाता है कि कोरोना बीमारी मरीज के फेफड़ों पर कितना असर डाल रहा है। सांस फूलना या होंठों-ऊंगलियों में नीलापन आना बाद में शुरू होता है। इस उपकरण के रीडिंग के जरिए हालात बता देता है और मरीज पहले ही अस्पताल पुह्चाया जा सकता है । इसका एक फायदायह भी है की कोरोना के कारण होने वाली मौतों की दर कम किया जा सकता है।

घर पर Oxygen Level से Check करना जोखिम है?

हो सकता है की Home Moniter रीडिंग गलत दे रहा हो या जो कोई भी इसे इस्तेमाल कर रहा हो उन्हें सही तरीका पता नहीं होगा इस कारण गलत तरीके से उपयोग कर रहा होगा। अगर आपके घर पर कोई सवस्थ व्यकती है तो उसे पहले इस Device का उपयोग करने के लिए कहे जब उसकी रीडिंग normal आए और आप सुनिश्चित हो जाए तब आप इस उपकरण का उपयोग करे। एक बार आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

बहुत सरे कार्य स्थलों Office में यह Device रखा गया है ताकि रोगी की जल्दी पहचान हो और Right time पर Treatment मिल सके।

दोस्तों आशा करती हूँ ऊपर दि गई जानकारी आपके काम आएगी आप भी डॉक्टर्स की सलाह के बाद अपने घर पर इस Device का उपयोग कर सकते है अपनी और अपने परिवार की सेफ्टी के लिए दोस्तों Stay Home Stay Safe

About the author

soniadumore

Hii Friends I Am Sonia Dumore From Mumbai Founder of Information Guru. You Can Learn Blogging & Online Marketing And Read Money Making Tips Form My Blog. If You Want To Know More Info, then join my Telegram Group...

Leave a Comment